हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
जुलाई 2016
अंक -33

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

संपादकीय
क्या हर धर्म का पहला पाठ इंसानियत नहीं होता?     मज़हब नहीं सिखाता, आपस में बैर रखना....। फिर ये मज़हब है ही क्यों? क्योंकि ये जो नहीं सिखाता, वही तो सब सीखते आए हैं! इतिहास गवाह है, धार्मिकता की आड़ में सबसे ज़्यादा पाप और अत्याचार होते रहे हैं। 'धर्म' न होता तो लड़ने के लिए और कौन सा मुद्दा शेष रहता? देश में जितने भी दंगे-फ़साद, आगजनी, हत्याएँ और असंख्य अमानवीय कृत्य होते रहे हैं; आखिर इनका जिम्मेदार कौन है? क्या ....
 
Share
इस अंक में ......

आवरण चित्र- कैलाश निहारिका

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
ख़ास-मुलाक़ात
भाषांतर
मूल्यांकन
ग़ज़ल पर बात
ख़बरनामा
व्यंग्य
हाइकु
उभरते स्वर
बाल-वाटिका
ज़रा सोचिए!
'अच्छा' भी होता है!