मार्च 2020
अंक - 58 | कुल अंक - 58
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

कहमुकरिया

कहमुकरिया

इत उत की ये सैर करावै,
इसका साथ मुझे है भावै।
हर पल चलने को तैयार,
क्या सखि साजन? ना सखि, कार।


***********************


उसका मेरा गहरा नाता,
बिन उसके शृंगार न भाता।
रह न सकूँ मैं उससे दूर,
क्या  सखि साजन? नहीं, सिंदूर।


***********************


तकती रहती उसकी राहें,
भरती हूँ मैं दिन भर आहें।
पाऊँगी जब होगी किस्मत,
क्या सखि साजन? ना सखि, ख़त।


***********************


देख उसे खुश होती रहती,
तकती हूँ पर कुछ नहिं कहती।
रैन दिवस सब उसे समर्पण,
क्या सखि साजन? ना सखि, दर्पण।


***********************


रूप रँगीला कितना प्यारा,
लगता है वो सबसे न्यारा।
करता नृत्य मगन चितचोर,
क्या सखि साजन? ना सखि, मोर।


***********************


सब उसके ही पीछे भागें,
वो न मिले तो रतियाँ जागें।
बिन उसके जीवन हो कैसा,
क्या सखि साजन? ना सखि, पैसा।


***********************


पाकर उसको खुश हो जाती,
ख़ुद पर मैं कितना इतराती।
कंठ लगाऊँ बारम्बार,
क्या सखि साजन? ना सखि, हार।


***********************


सखियों से मुझको मिलवाये,
जी भर कर बातें करवाये।
मनभावन है उसकी टोन,
क्या सखि साजन? ना सखि, फोन।


***********************


हर दिन ये मेरे घर आता,
दुनिया भर की बात बताता।
नया कलेवर हो हर बार,
क्या सखि साजन? नहिं, अख़बार।


***********************


होने नहीं दूँ उसको ओझल,
आँखों में रहता वो प्रतिपल।
कारा-कारा जैसे बादल,
क्या सखि साजन? ना सखि, काजल।


***********************


वो चूमे तो मैं चिल्लाऊँ,
साथ न भाये, दूर भगाऊँ।
अक्सर करती ता ता थैया,
क्या सखि साजन? नहीं, ततैया।


***********************


कितना प्यारा समय बिताया,
याद मुझे वो पल-पल आया।
कैसे उसको जाऊँ भूल,
क्या सखि साजन? ना सखि, स्कूल।


- अंजलि गुप्ता सिफ़र

रचनाकार परिचय
अंजलि गुप्ता सिफ़र

पत्रिका में आपका योगदान . . .
ग़ज़ल-गाँव (1)कहमुकरिया (1)