फरवरी 2020
अंक - 57 | कुल अंक - 58
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

उभरते स्वर
अंतर्मन का तूफान
 
कभी तो वो तूफान उठेगा
मेरे अंतर्मन में,
जो बहा ले जायेगा अपने साथ
हर विरोधाभास
और बचेगा सिर्फ विश्वास
 
खत्म हो जाएगा हर दोहराव
और सिर्फ रह जायेगा एक ही पड़ाव
फिर ये हर राह की भटकन न होगी
सिर्फ एक राह ही मंजिल तक होगी
 
कभी तो वो शीतल चाँदनी फैलेगी
मेरे अंदर के गगन में,
जो भर देगी मन को असीम आनन्द में
फिर न कोई उन्माद होगा
बस अनाहत का नाद होगा
 
अब बस इंतजार है मुझे
उस तूफान का
जो हर लहर के साथ एक उम्मीद
दे जाता है
और दे जाता है इंतज़ार, इंतज़ार और इंतजार

- रुचिता नीमा

रचनाकार परिचय
रुचिता नीमा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
उभरते स्वर (1)