अक्तूबर 2017
अंक - 31 | कुल अंक - 63
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

बाल-वाटिका

बाल कविता- नई पहचान

नित्य सवेरे तुम जग जाना,
धरती माँ को शीश नवाना।
प्यारे बच्चों इस दुनिया में,
मिल-जुलकर पहचान बनाना।।

मात-पिता की सेवा करना,
बाधाओं से कभी न डरना।
पढ़-लिखकर जीवन में अपनें,
मिल-जुलकर पहचान बनाना।।

सच्चाई के पथ पर चलना,
भेद-भाव की बात न करना।
अपनी मंज़िल तक जाकर तुम,
मिल-जुलकर पहचान बनाना।।


*****************************


बाल कविता- देखो तो शाला जाकर

करके जल्दी से तैयारी,
शाला पढ़ने जायेंगे।
चित्र बनें हैं जहाँ मनोहर,
मन अपना बहलायेंगे।।

पुस्तक-कॉपी लेकर झटपट,
सीधे शाला जाना है।
ध्यान लगाकर सच्चे मन से,
सबक हमें तो पढ़ना है।।

कितना अच्छा मिलता भोजन,
देखो तो शाला जाकर।
खेल-कूद भी तरह-तरह के,
देखो तो शाला जाकर।।

 


- डॉ. प्रमोद सोनवानी

रचनाकार परिचय
डॉ. प्रमोद सोनवानी

पत्रिका में आपका योगदान . . .
बाल-वाटिका (2)