हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका

दिसम्बर 2019
अंक - 55 | कुल अंक - 61
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

दुर्योधन और दुःशासन का बोलबाला मगर कृष्ण नदारद!
दुर्योधन और दुःशासन का बोलबाला मगर कृष्ण नदारद!   बेटियों को सब पर संदेह करना सिखाओ। उन्हें हथियार चलाना सिखाओ और आवश्यकता पड़ने पर उसका तुरंत उपयोग करना भी। आती-जाती सरकारों ने आज तक कुछ नहीं किया, आप उनके भरोसे न रहें! अपनी रक्षा आप करें! पुरुष मानसिकता में सुधार आने की सोच रखना एक भ्रम है, जिसे हम और आप वर्षों से पाल रहे हैं। कुछ पुरुषों के अच्छे हो जाने भर से कोई परिणाम नहीं आ सकता जब तक कि अपराध के विरोध में जनता के स्वर मुखर न हो! होने के बाद तो सब आन्दोलन करते हैं लेकिन किसी भी तरह के अपराध को सामने होते देख, बचकर निकल जाना; हमारे समाज की ये चुप्पी भी कम घातक नहीं। इसी बात से तो अपराधियों के हौसले बुलंद होते हैं। जब ....

Share
इस अंक में ......

आवरण: प्रीति अज्ञात

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
भाषांतर
मूल्यांकन
धरोहर
देशावर
ख़बरनामा
हाइकु
उभरते स्वर
ज़रा सोचिए!
आधी आबादी: पूरा इतिहास
यात्रा वृत्तांत
फ़िल्म समीक्षा
जयतु संस्कृतम्