रचनाकार : हस्ताक्षर
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2018
अंक -37

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

रचनाकार परिचय

डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम

ई-मेल :
--
संपर्क :
--
परिचय :
जन्म- 15 अक्टूबर, 1931
मृत्यु- 27 जुलाई 2015
जन्म स्थान- धनुषकोडी, रामेश्वरम (तमिलनाडु)
अबुल पाकिर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम अथवा डॉक्टर ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम, जिन्हें मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है, भारतीय गणतंत्र के ग्यारहवें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जाने-माने वैज्ञानिक और अभियंता के रूप में विख्यात थे।
इन्होंने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक और विज्ञान के व्यवस्थापक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) संभाला व भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी शामिल रहे। इन्हें बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यान प्रौद्योगिकी के विकास के कार्यों के लिए भारत में मिसाइल मैन के रूप में जाना जाने लगा।
इन्होंने 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में भारत के पोखरन-द्वितीय परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाई।
कलाम सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी व विपक्षी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस दोनों के समर्थन के साथ 2002 में भारत के राष्ट्रपति चुने गए। पांच वर्ष की अवधि की सेवा के बाद, वह शिक्षा, लेखन और सार्वजनिक सेवा के अपने नागरिक जीवन में लौट आए। इन्होंने भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त किये। कलाम के एक विशिष्ट वैज्ञानिक थे, जिन्हें 40 से अधिक विश्वविद्यालयों और संस्थानों से डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्राप्त हुई।
 
कलाम साहब की प्रमुख पुस्तकें निम्नवत हैं-
 
इग्नाइटेड माइंडस: अनलीशिंग द पावर विदीन इंडिया (पेंग्विन बुक्स, 2003)
इंडिया- माय-ड्रीम: (एक्सेल बुक्स, 2004)
एनविजनिंग अन एमपावर्ड नेशन: टेक्नालजी फार सोसायटल ट्रांसफारमेशन: (टाटा मैक्ग्राहिल प्रकाशन, 2004)
विंग्स ऑफ फायर: एन आटोबायोग्राफी ऑफ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम: सह लेखक- अरुण तिवारी, (ओरियेंट लांगमैन, 1999)
साइंटिस्ट टू प्रेसिडेंट: (ज्ञान पब्लिशिंग हाउस, 2003)

हस्ताक्षर में आपका योगदान

स्मृति (1)