प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
फरवरी 2017
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

हायकु

हायकु


कृष्ण सुदामा
अमीरी-गरीबी के
भेद से परे



जननीवत
करती जो पोषण
गौ उपेक्षिता



माता कहते
गौ पालते क्यों नहीं
भूखी फिरती



यंत्र प्रयुक्त
कृषि बनी उद्योग
बछड़े मरते



वर्षा के गीत
गाने लगे बादल
उमड़ी प्रीत



घिरी घटाएँ
स्याही जैसे बादल
जिया डराएँ



झंडा लहरे
तीनो रंग मन में
उतरे गहरे



नील गगन
गोद में खिला रहा
ध्वज सुअन



बूंदें बरसीं
धरती के आँगन
हर्ष उल्लास



ओस की बूंद
मोती-सी चमकती
हिली पंखुरी



बया घोंसला
तरु की डाल पर
प्रकृति हँसी


- डॉ. रंजना वर्मा
 
रचनाकार परिचय
डॉ. रंजना वर्मा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
गीत-गंगा (1)हाइकु (2)