प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
मई 2016
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

ग़ज़ल की बात

ग़ज़ल की बात (किश्त 4)


साथियों ‘ ग़ज़ल की बात ’ की तीन किश्तों में हमने ग़ज़ल के सामान्य क्राफ्ट और ग़ज़ल की सतत , मिश्र और रूपांतरित लहरों के बाबत चर्चा की | इस चर्चा में हमने पहली पाँच हिलोर –

तराना – 122
झूमकर – 212
मुहब्बत का – 122 2
गुनगुनाओ – 212 2
हँसते रहो – 22 12

के विविध स्वरूपों का परिचय पाया | इन पाँचों में लाम यानि लघु स्वर एक ही है और उसकी स्थिति बदल देने भर से दूसरी हिलोर प्राप्त हो जाती है | लेकिन अन्य दो हिलोर में ऐसा नहीं है | ये दो हिलोरें हैं ----

उदास कभी – 12-1-12
न रहो सनम – 1-12-12


इनमें तीन छोटी बूँदें यानि लघु स्वर (लाम) और दो बड़ी बूँदें यानि दीर्घ स्वर ( गाफ़ ) है | इनकी सतत लहरों में भी पूर्ववत लहरों की तरह N – 4 - 3 - 2  आवृत्ति (दोहराव ) होता है | यथा –

12-1-12 \ 12-1-12 \ 12-1-12 \ 12-1-12 = चार कड़ी
12-1-12 \ 12-1-12 \ 12-1-12 = तीन कड़ी
12-1-12 \ 12-1-12 = दो कड़ी


और

1-12-12 \ 1-12-12 \ 1-12-12 \ 1-12-12 = चार कड़ी
1-12-12 \ 1-12-12 \ 1-12-12  = तीन कड़ी
1-12-12 \ 1-12-12  = दो कड़ी


इनके मिश्र रूप भी संभव हैं –

12-1-12 \ 1-12-12 \ 12-1-12 \ 1-12-12 = चार कड़ी  
12-1-12 \ 1-12-12 \ 12-1-12 = तीन कड़ी  
12-1-12 \ 1-12-12 = दो कड़ी
   
तथा


1-12-12 \ 12-1-12 \ 1-12-12 \ 12-1-12 = चार कड़ी
1-12-12 \ 12-1-12 \ 1-12-12 = तीन कड़ी
1-12-12 \ 12-1-12 = दो कड़ी


उपरोक्त लहरों के रूपांतरित रूप भी हैं | यथा –
1-12-12 –122 \ 1-12-12—122

इन लहरों पर कुछ लोकप्रिय धुनें हैं ---

1-12-12 \ 1-12-12 \ 1-12-12 \ 1-12-12 = चार कड़ी
न तो कारवाँ की तलाश है \ न तो हमसफ़र की तलाश है
मुझे दर्दे-दिल का पता न था \ मुझे आप किसलिए मिल गए


1-12-12 –122 \ 1-12-12—122
तू जहाँ जहाँ चलेगा \ मेरा साया साथ होगा
मुझे इश्क़ है तुझी से \ मेरी जाने जिंदगानी

लेकिन इन लहरों (बहरों) पर तक्ती’अ करने अथवा ग़ज़ल कहने से पहले हमें ग़ज़ल विधा की उन विशिष्ट बातों को जानना होगा , जो इसे हिंदी छंदों से अलग करती हैं |

क ) ज़िहाफत ( मात्रा - पतन ) --- किसी भी शब्द को हम तीन तरह के वर्णों में बाँट सकते हैं |


* शुद्ध लघु – वे व्यंजन जिन पर अ , इ , उ ,ऋ की मात्रा लग रही हो और जो मुतहर्रिक
( स्वतंत्र लघु ) हो | इन्हें कोड 1 देंगे |

* शुद्ध गुरु – वे व्यंजन जिन पर शुद्ध रूप से आ , ई , ऊ , ए \ऐ , ओ \औ की मात्रा लग रही हो | यानि सकील | इन्हें कोड 2 देंगे |

* खफीफ( मिश्र गुरु ) – वे दो व्यंजन जिन पर मात्रा तो लघु लग रही हो किन्तु दोनों लघु एक साथ उच्चारित होकर गुरु की तरह गिने जा रहे हो | इन्हें शुद्ध गुरु की तरह कोड 2 देंगे |

 
शुद्ध लघु (लाम ) , शुद्ध गुरु ( गाफ़ ) और खफीफ(मिश्र गुरु ) एक नियत क्रम संयोजित होकर एक लय  का निर्माण करते हैं | इस लय - पद को रुक्न (हिलोर ) नाम दिया गया है | इन्हीं लय पदों की निश्चित आवृत्ति ( दोहराव ) से लहर \ बह्र का निर्माण होता है |
उदाहरण –


त रा ना
1 -----2 -----2
1 -----2----- 2
1 -----2----- 2
1 -----2----- 2


स्पष्ट है कि 2 के नीचे तो शुद्ध गुरु और मिश्र गुरु दोनों आ सकते हैं
लेकिन 1 के नीचे केवल और केवल शुद्ध लघु ही आएगा |

यदि 1 के नीचे या 1 के खाने में कहीं भी शुद्ध गुरु ( सकील ) आता हो तो उसकी बड़ी मात्रा गिरकर छोटी हो जायेगी और उसे शुद्ध लघु की तरह माना जाएगा , उसका कोड 1 हो जाएगा क्यों कि वह 1 के खाने में है | इसे ज़िहाफत या मात्रा – पतन कहते हैं |
उदाहरण –
तुम्हें अप \ ना साथी \ बनाने \ से पहले
मेरी जा \ न मुझको \  बहुत सो \ चना है
इसे ध्यान से देखने पर

1 2 2 \ 1 2 2 \ 1 2 2 \ 1 2 2
का दोहराव लगता है अतः यहाँ ना , से और मे को 1 में खाने में आने के कारन ज़िहाफत की सजा मिलेगी | इनकी मात्रा गिर जाएगी |
तुम्हें अप \ न साथी \ बनाने \ स पहले
मिरी जा \ न मुझ को \ बहुत सो \ चना है

ख ) अलिफ़ – वस्ल – कई बार किसी शब्द के अंत में अलिफ़ या अ की मात्रा युक्त वर्ण होने पर उसके बाद कोई स्वर हो तो उसकी संधि अलिफ़ युक्त वर्ण के साथ हो जाती है |
जैसे –

नसीब ऐसा -- जगा मेरा = नसीबे सा – जगा मेरा = 122 2 –122 2
शायद उनका \ आखरी हो  \ ये सितम
शाय दुन का \  आखरी हो  \ ये सितम = 21 22 \ 21 22 \ 21 2
कबूल आज दिल की दुआ हो गई है
कबूला \ ज दिल की \ दुआ हो \ गई है
122 \ 122 \122 \  122


अलिफ़ – वस्ल का प्रयोग स्वैच्छिक है यानि ज़रूरी नहीं का ऐसा किया ही जाए , लेकिन शायर जिस बह्र में ग़ज़ल कह रहा है उसकी माँग हो तो ऐसा किया जा सकता है |

ग ) इजाफत – जब कभी किसी संज्ञा शब्द के साथ संबध कारक की तरह दूसरा संज्ञा शब्द जुड़ता है तो दोनों के मध्य – ए – लगाया जाता है | जैसे –

सोज़ – ए – वतन  < अलिफ़ –वस्ल भी लगा सकते हैं > = सोज़े वतन
ग़म – ए – इश्क़   < अलिफ़ –वस्ल भी लगा सकते हैं > = गमे इश्क़
याद – ए – चमन  < अलिफ़ –वस्ल भी लगा सकते हैं > = यादे चमन
जान – ए – मन   < अलिफ़ –वस्ल भी लगा सकते हैं > = जाने मन


यहाँ योजक ए और अलिफ़ – वस्ल के बाद लगी ए की मात्रा को गाफ़ यानि 2 भी ले सकते हैं और लाम = 1 के नीचे आकर इनकी ज़िहाफत हो जाने पर इन्हें 1 भी ले सकते हैं |

मुझे दर्दे उल्फ़त मिला है

122 \ 122 \ 122

घ ) अत्फ़ – जब दो शब्द युग्म की तरह होते हैं उनके बीच और(and) अथवा व का भाव होता हो तो – ओ - लगता हैं | जैसे –

ख़ार और खस = ख़ार – ओ – खस = खारोखस
रंज़ और ग़म = रंज़ – ओ – ग़म = रंजोगम


अत्फ़ वाले शब्दों को भी बह्र के अनुसार गाफ़ यानि 2 भी ले सकते हैं और लाम = 1 के नीचे आकर इनकी ज़िहाफत हो जाने पर इन्हें 1 भी ले सकते हैं |

साथियों ज़िहाफत , अलिफ़-वस्ल , इज़ाफ़त और अत्फ़ ही वो सशक्त पहलू हैं जो ग़ज़ल को आम छंदों से अलग विशिष्ट पहचान देते हैं , अतः इन पर ख़ूब अभ्यास करें |

सादर आभार |

 


- ख़ुर्शीद खैराड़ी