प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
मार्च 2016
अंक -50

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

बाल-कविता
जंगल में फुटबॉल
 
शेर ने इक दिन सोचा,
जंगल में फुटबाॅल खिलाये।
बंदर को आदेश दिया कि,
बाॅल एक ले आए।
 
जब बन्दर बाज़ार गया तो,
पीने लगा वो जूस।
बाॅल कहीं पर मिली नहीं तो,
ले आया तरबूज़।
 
अगले दिन फिर खेल हुआ,
हाथी ने मारी लात।
बिखर गया तरबूज़ बेचारा
बंट गई कितनी फांक।
 
देख लाल तरबूज़ चटोरी
बिल्ली के मुंह पानी आया।
उठा के टुकड़ा भागी ऐसे,
दिखा कहीं ना साया।।
 
*************************
 
चल चल वापिस अपने गांव
 
बिल्लू साईकिल लेकर निकला,
पीछे बिल्ली बैठाई।
पहुंच गए हाइवे पे दोनों,
साईकिल खूब दौड़ाई।
 
सिर में सुन्दर फूल सजाकर,
बैठी प्यारी बिल्ली।
बातें करते करते दोनों,
पहुंच गए वो दिल्ली।
 
दिल्ली जाकर थक गए दोनों,
मिली कहीं ना छाया-पानी।
दोनों ने देखा जब ये सब,
उनको हुई बड़ी हैरानी।
 
इससे तो अपना गांव भला,
जहां पीपल की ठंडी छांव।
गलती से हम आए यहां,
चल चल वापिस अपने गांव।।

- असमा सुबहानी
 
रचनाकार परिचय
असमा सुबहानी

पत्रिका में आपका योगदान . . .
कविता-कानन (1)ग़ज़ल-गाँव (1)बाल-वाटिका (2)