जनवरी 2020
अंक - 56 | कुल अंक - 56
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

कविता-कानन
समय
 
लकीरें ही नहीं होती
सिर्फ हथेलियों में
होती है
उम्र के ढलान की
एक लंबी सड़क
होती है
विचारों की भीड़
और
रिश्तों की कसमसाहट
होती है
फूलती साँसें
और डगमगाते क़दम
फिर
खो जाते हैं हम
विचारों की भीड़ में
एक टूटे पत्ते की तरह
स्वच्छन्दता की चाह में
एक नए बदलाव की ओर
बस लुढ़कते जाते हैं
उम्र के ढलान पर

- प्रदीप कुमार

रचनाकार परिचय
प्रदीप कुमार

पत्रिका में आपका योगदान . . .
कविता-कानन (1)