जनवरी 2020
अंक - 56 | कुल अंक - 57
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

छन्द-संसार

सदोका छंद

इज़्ज़त बड़ी
अनमोल चीज़ होती
इसे कमाना पड़ता
तब मिलती
सबकी इज़्ज़त करो
राजा हो या ग़रीब


************

सीख तू मन
जीवन अनमोल
जीव क्षणभंगुर
बावरा बन
न बैठ हार कर
बस चलता चल


************

मिलेगा तुझे
तेरा जीवन मान
न कर अपमान
स्वाभिमान का
जीवन सीख
विष पिये जो वही
बनेगा शिव वही


************

चिंताजनक
भूमि बने बंजर
कैसे होगी बारिश
हरित धरा
शुष्क होती जायेगी
वर्षा तरसायेगी


************

मन बेचैन
आँखें अश्रुपूरित
काँपते हुए होंठ
बस पुकारे
लेकर तेरा नाम
देखूँ लूँ एक बार


************

सपना देखूँ
हम दोनों हैं साथ
करते मीठी बात
हँसते रहे
खोये एक दूजे में
चाँद के झूले में


- डॉ. विभा रंजन कनक

रचनाकार परिचय
डॉ. विभा रंजन कनक

पत्रिका में आपका योगदान . . .
छंद-संसार (1)हाइकु (1)