सितम्बर - अक्टूबर 2019 (संयुक्तांक)
अंक - 53 | कुल अंक - 54
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

मूल्याँकन

हिन्दी ग़ज़ल का एक महत्वपूर्ण संग्रह: चुप्पियों के बीच
- के. पी. अनमोल


 



'चुप्पियों के बीच' किताबगंज प्रकाशन से हाल ही में आया हिन्दी ग़ज़ल का एक महत्वपूर्ण संग्रह है। यह संग्रह डॉ. भावना द्वारा रचित है। डॉ. भावना हिन्दी ग़ज़लकारों और पाठकों के लिए एक सुपरिचित नाम हैं। आज की ग़ज़ल के महत्वपूर्ण हस्ताक्षर उस्ताद ग़ज़लकार डॉ. दरवेश भारती कहते हैं कि- "डॉ. भावना आज की महिला ग़ज़ल-लेखन में सबसे अधिक सफल ग़ज़लकारा हैं।......इनकी ग़ज़लों में यथार्थवाद का वह रूप मिलता है, जो निश्चय ही शुभ और स्वस्थ है।..... इनकी ग़ज़लें सामाजिक, राजनैतिक और दैनिक जीवन के यथार्थ चित्रों से परिपूर्ण हैं। सुलगते यथार्थ को सूत्रबद्ध और व्यवस्थित करना और उनमें प्राण डालना इनकी ख़ास विशेषता है।"

जब दरवेश भारती जैसा जीनियस किसी ग़ज़लकार के लिए ऐसी घोषणा कर दे तो इसका महत्व हम समझ सकते हैं कि उस ग़ज़लकार में क्या क्षमता होगी। बिहार के मुज़फ्फरपुर निवासी डॉ. भावना का यह तीसरा ग़ज़ल संग्रह है। इससे पहले आया इनका ग़ज़ल संग्रह 'शब्दों की क़ीमत' भी ख़ासा चर्चित रहा है। जैसा कि दादा दरवेश भारती जी ने बताया कि डॉ. भावना ग़ज़ल लिखते समय अपने दौर को ज़ेहन में रख; समाज, राजनीति और हमारे दैनिक जीवन की घटनाओं पर बारीकी से नज़र रखती हैं। इनके लिए अपने निजी अनुभव जितने ज़रूरी हैं, उतने ही ज़रूरी हैं- समाज और आम इंसान की जद्दोजहद। इनकी ग़ज़लों में कपोल-कल्पनाएँ और उक्ति वैचित्र्य बहुत कम मिलता है। ये सीधी-सादी भाषा में अपनी बात रखना पसन्द करती हैं।

डॉ. भावना के ग़ज़ल लेखन में ज़मीनी सच मुखर होकर आता है। लेकिन इस अंदाज़ में कि वह कविताई के मर्म को ज़िन्दा रखे रहे। कुछ शेर देखें-


एक इमारत जुग्गी पर इठलाएगी
कोई बंदा घर से बेखर हो तो हो
________________

कहोगे तुम नहीं जितना वो अब उतना समझता है
समय की नब्ज़ को अब पेट का बच्चा समझता है
________________

हमेशा घर की बहुओं में हज़ारों दोष होते हैं
हमेशा अपनी बेटी ही हमें शालीन लगती है
________________

यहाँ खरगोश को भी मात दे जाता है इक कछुआ
विजय की हर कसौटी तो लगन पर आके रुकती है


अपने समय से मुख़ातिब इन कुछेक शेरों से ही यह आभास और विश्वास हो जाता है कि वर्तमान इनकी ग़ज़लों में किस तरह मज़बूती से आता है। एक प्रतिबद्ध रचनाकार की यह ख़ूबी होती है कि वह अपने दौर में जीता है, अपने दौर को रचता है।

भाषा की बात की जाय तो वे आम व्यक्ति की सामान्य बातचीत की भाषा में अपना रचनाकर्म करती हैं। इनके यहाँ भाषा को लेकर न किसी प्रकार की दुरुहता मिलती है न पूर्वाग्रह। ये हिन्दी परिवेश में रहते हुए आम हिन्दुस्तानी पाठक के लिए सृजन करती हैं। इनके लेखन की सहजता देखिए-


भला बनने की ऐसी क्या ज़रूरत
हो जैसे भी, यहाँ वैसे रहो तुम
________________

बिना बोले ही कह जाते बहुत हैं
ये आँसू लफ़्ज़ों से अच्छे बहुत हैं
________________

पल में सो जाता है आँचल में बिलखता बच्चा
माँ को क्या ख़ूब सुलाने का हुनर आता है


समाज के सरोकारों पर भी इनकी पैनी नज़र रहती है। इनके यहाँ का यथार्थ ग़ज़ल के बाक़ी तमाम पहलुओं पर भारी पड़ता है। और इसी एक वजह से ये अपने समय की महिला ग़ज़लकारों से बहुत आगे खड़ी मिलती हैं। यथार्थ की आँखों में आँखें गढ़ाने का साहस इन्हें विशिष्ट बनाता है। यही साहस पूरे हिन्दी परिवेश की ग़ज़लों की विशेषता है।

भूख का रूप आप क्या जानें
आपने पेट भर के खाया है
________________

बड़ी बिल्डिंग, बड़ी सड़कों के ही क़िस्से सुनाती है
शहर की तितलियाँ जब गाँव में भूले से आती हैं
________________

चार चूल्हे थे मगर अम्मी रही भूखी
घर के भीतर घर को कैसे ढो रहे थे हम
________________

जिसे पढ़ने को जाना है उसे नौकर बनाती है
हर इक छोटू के बचपन को ग़रीबी लील जाती है


एक महिला हमारे समाज में कितनी ही उथल-पुथल लेकर जीती है या यूँ कहिए कि अपने आपको बचाए रखती है। क़दम-क़दम पर वह न चाहते हुए भी कई-कई समझौते करती है, हालत से मुक़ाबला करती है। ऐसे में एक महिला के दृष्टिकोण से महिलाओं के जीवन और अनुभवों पर कहे गये ये शेर उनके महिला ग़ज़लकार होने की सार्थकता सिद्ध करते प्रतीत होते हैं-

कितना अजब कमाल है पुरखों की जीन का
नानी की शक्ल लेके मैं धरती पे आ गयी
________________

खिड़की, आँगन, गलियाँ रोयीं
पीहर से जब रिश्ता छूटा
________________

इस पड़ोसन को क्या कहूँ आख़िर
कब की खुन्नस निकाल बैठी है
________________

कभी हँसती, कभी रोती, कभी चुप्पी लगाती है
ये औरत रोज़ छल-बल की लड़ाई हार जाती है


पेशे से शिक्षिका, शौक़ से लेखिका एवं संपादक डॉ. भावना का व्यक्तित्व और कृतित्व अनुकरणीय है। उन्हें पढ़कर यह जाना जा सकता है कि ग़ज़ल जैसी पारम्परिक और समृद्ध विधा में किस तरह अपने समय की आधुनिकता का समावेश किया जाता है। इस ग़ज़ल संग्रह के लिए उन्हें और किताबगंज को आत्मीय शुभेच्छाओं के साथ बेह्तर साहित्यिक भविष्य के लिए मंगलकामनाएँ।




समीक्ष्य पुस्तक- चुप्पियों के बीच
रचनाकार- डॉ. भावना
विधा- ग़ज़ल
प्रकाशक- किताबगंज प्रकाशन, गंगापुरसिटी (राजस्थान)
संस्करण- प्रथम (मई 2019)
पृष्ठ- 96
मूल्य- 195 रुपये


- के. पी. अनमोल

रचनाकार परिचय
के. पी. अनमोल

पत्रिका में आपका योगदान . . .
हस्ताक्षर (1)ग़ज़ल-गाँव (2)गीत-गंगा (2)कथा-कुसुम (1)आलेख/विमर्श (2)छंद-संसार (1)ख़ास-मुलाक़ात (2)मूल्यांकन (20)ग़ज़ल पर बात (7)ख़बरनामा (17)संदेश-पत्र (1)रचना-समीक्षा (7)चिट्ठी-पत्री (1)पत्र-पत्रिकाएँ (1)