अगस्त 2019
अंक - 52 | कुल अंक - 53
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

जयतु संस्कृतम्
दूतश्च को भविता  
            
श्रावणस्य प्रथमं दिनं 
कालिदासस्य यक्षः 
आषाढे तु का कथा 
श्रावणेऽपि चातकायते 
मेघदर्शनं विना।
कुतो भवेत् सफला याचना ?
अद्य वृथाऽऽस्ते प्रार्थना।
यदा चेतनतोऽपि जातो निराशः 
तदा अचेतने भवेत् कथं विश्वासः?
तथा च याचनाऽपि किमर्थम्?
मेघं विना कुत्र विरहव्यथा?
विरहरहिता च कीदृशीयं प्रेमप्रथा?
मेघागमने तु दरस्थ एव न ,
अपितु विह्वलो भवति निकस्थोऽपि।
परं न कुत्रापि मेघदर्शनं 
न च प्रियजनस्य दूरस्थता ,
तर्हि कश्चित् कुत्र 
प्रेषयेत् सम्प्रति सन्देशं 
दूतश्च को भविता?

- प्रो.ताराशंकर शर्मा पाण्डेय