प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अगस्त 2019
अंक -52

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

गीत-गंगा
गीत
 
1.
 
कंटक पथ में अकुलाता मन,
कश्ती भी  है मझधार गई ।
यह अश्रुपूर्ण मन बोल उठा,
लो  तुम  जीते  मैं  हार गई ।।
 
तुमने पुस्तक कितनी बाँची,
पर हृदय न मेरा  बाँच  सके ।
पढ़ पाये कभी न सजल नयन
क्या प्रेम प्रीत ही जाँच सके ।।
 
कोमल फूलों जैसा यौवन,
प्रियतम ! उससे तो बहार गई ।।
लो तुम जीते ----------
 
वह प्रथम मिलन की बेला थी,
जब मेघ घुमड़ कर थे बरसे ।
धरती से मन तक हरियाली ,
चातक स्वाती पाकर हरसे ।।
 
छायी फिर जो गम की बदली,
सुख की हर एक बयार गई ।।
लो तुम जीते -------------
 
कुछ स्वप्न सदृश सा है लगता,
हम दोनों का फिर से मिलना ।
अब सम्भव यह हो जाये बस,
काँटों  में फूलों सा खिलना ।।
 
है  तपिश प्रेम की कुछ बाक़ी,
या  उसकी भी अंगार गई ।।
लो तुम जीते -------------
 
********************
 
2.
 
ज़मीं से गगन तक तपन ही तपन है ।
बढ़ी भास्कर से अगन ही अगन है ।।
 
चली पनियाँ भरने को संग में सहेली ।
भले साथ सबके, है तन्हा अकेली ।
लिए सर पे मटकी हिय में सजन है ।।
तपन ही तपन है.........
 
गए हो सजन तुम परदेस जब से ।
नयन तो लगे हैं द्वारे पे तब से ।
हुआ अब कठिन ही अपना मिलन है ।।
तपन ही तपन है .........
 
है घर-बार सूना है सूनी नगरिया ।
बिछे शूल पथ में है मुश्किल डगरिया ।
नयन राधा ढूंढे कहाँ पर किशन है ।।
तपन ही तपन है ............
 

- पुष्प सैनी
 
रचनाकार परिचय
पुष्प सैनी

पत्रिका में आपका योगदान . . .
गीत-गंगा (1)