प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
जुलाई 2019
अंक -52

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

ग़ज़ल-गाँव

ग़ज़ल-

कोई कमी थी मेरे हाल-ए-दिल सुनाने में
वगरना कम तो न थे रहम दिल ज़माने में

बस एक बार कहा उसने मुझको संजीदा
फिर उसके बाद लगी उम्र मुस्कराने में

वो जिनके लम्स से जाम-ओ-सुबू चहक उट्ठे
ये कौन लोग हैं आख़िर शराबख़ाने में

तुम्हारी यादों से शिकवा रहेगा आँखों को
इन्हीं का हाथ है रातें बड़ी बनाने में

लगाव दुनिया का बे-जान चीज़ों से देखो
लगे हैं लोग ख़ुदा को भी बुत बनाने में

चराग़-ए-ख़्वाहिश-ए-दिल तो जला लिया लेकिन
धुआँ-धुआँ हुए रौनक़ धुआँ छुपाने में


************************


ग़ज़ल-

मैं फ़सानों में दर्ज हो जाता
तो किताबों में दर्ज हो जाता

मुझसे तो था निज़ाम-ए-नौ बनना
क्यों रिवाजों में दर्ज हो जाता

शिद्दत-ए-प्यास गर मुक़द्दर थी
मैं सराबों में दर्ज हो जाता

गर निकलता सुकूत-ए-ज़ेह्न से मैं
दिल के नालों में दर्ज हो जाता

दर्द से राबिता न होता तो
वाह-वाहों में दर्ज हो जाता

काश इक दिन मेरा मुक़दमा भी
तेरी बाहों में दर्ज हो जाता


- रोहिताश्व मिश्रा रौनक़
 
रचनाकार परिचय
रोहिताश्व मिश्रा रौनक़

पत्रिका में आपका योगदान . . .
ग़ज़ल-गाँव (1)