प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
मई 2019
अंक -52

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

उभरते-स्वर

प्रेम के पल

एकटक
झुकी
मुस्काती
आँखों में
झाँकते हुए
किसी पुराने
आम के पेड़ के नीचे
या रेलवे स्टेशन के किसी कोने, मंदिर--मेले में।

इस
लोक लुभावनी
बाजारू दुनिया
की कल्पनाएँ
मुझे
कोरी झूठी लगने लगती

उस समय
कुछ भी
याद नहीं रहता
विश्वविद्यालय, क्लास, शहर की भीड़, धुंध, धुंआ, घुटन।

थम-सी जाती है
ज़िन्दगी
और
समय का चक्र
हौले-हौले मुस्काता
कहीं खोया
खंगालता
इतिहास के प्रेममयी पन्ने
नहीं सुनाई देते शाश्वत शब्द
पतले
फड़कते होंठ
गुलाबी पसीने से
चुहचुहाया चेहरा
जाने-अनजाने
कह जाता
हजारों शब्द,
हजारों बातें
अपनी ही भाषा में
जिसे नहीं समझ पाएँगे
हृदयहीन,
बुद्धिजीवी,
आलोचक।


********************


आँधी

मस्तिष्क में
विचारों, भावों,
कल्पनाओं की आँधी

मुझे जीने नहीं देते,
सोने नहीं देते
ये झूठे-सच्चे सपने

सम्मान
विलास
वासना में
डूबता-उतराता
बहकता संभलता
यौवन

पल-पल बदलता
दुनिया का घटनाक्रम
कहीं दुबका
खोखले आदर्शों में
कटा आधुनिकता से
भ्रमित भविष्य में जीता


********************


ठहराव

ठहराव
आवश्यक है
भूत में
झाँकने का
बीते को
दोहराने का
कुछ पल के लिए ही सही
लौट जाओ
अपनी यादों में

कुछ न कुछ
छूट जाता है
हर बार
सीखने के लिए
ठहरता है
समय भी
निर्णायक मोड़ों पर।


- सत्येंद्र कुमार मिश्र
 
रचनाकार परिचय
सत्येंद्र कुमार मिश्र

पत्रिका में आपका योगदान . . .
उभरते स्वर (1)