प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2019
अंक -48

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

जयतु संस्कृतम्
(1)
सागरं तु कथमपि तीर्णोऽहम्।
तटमागत्य हन्त! मग्नोऽहम्।।
श्रमशोणितसिंचितमहोत्सवे
नास्ति ते कार्यं सूचितोऽहम्।।
अमृतफलमखादित्वापि खलु
नाकादहह! वराकश्च्युतोऽहम्।।
 
गङ्गाजलं तु तथैव स्थितं
पश्य! पिपासित एव गतोऽहम्।।
चषके यदा न मदिरा तदैव
तव सभायां तिवारी स्मृतोऽहम्।।
 
*******************
 
(2)
मयि किमपि मम नास्ति।
मम नामापि मम नास्ति।।
आकाशाय विलपसि
भूरियमपि मम नास्ति।।
परमेशो न तर्हि किं
सैकापि मम नास्ति।।
तस्मै रोदिषि यन्न
हस्तगतमपि मम नास्ति।।
भाविभानुर्भणति मां
रात्रिरपि मम नास्ति।।

- डाॅ. कौशल तिवारी
 
रचनाकार परिचय
डाॅ. कौशल तिवारी

पत्रिका में आपका योगदान . . .
जयतु संस्कृतम् (5)