प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
फरवरी-मार्च 2019 (संयुक्तांक)
अंक -49

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

विशेष
देखो तो..
 
देखो तो स्टूडेंट होकर फैशन करती है
देखो तो डॉक्टर होकर हँसी मजाक करती है
देखो तो टीचर होकर जीन्स पहनती है
देखो तो वैज्ञानिक होकर मन्दिर जाती है
देखो तो एक्टर होकर अध्यात्म की बातें करती है
देखो तो पुलिस वाली होकर डांस करती है
देखो तो रोज मन्दिर जाती है फिर भी सेक्स की बात करती है
देखो तो सफाई कर्मचारी है लेकिन कपड़े अमीरों जैसे पहनती है
देखो तो लेखिका है पर कभी मुख मुद्रा गम्भीर नहीं, चुटकुले पोस्ट करती है
देखो तो गृहिणी है लेकिन होटल में खाने जाती है
देखो तो कितनी उम्र हो गयी, अब भी फ़िल्म देखती है
देखो तो बहू है पर सर पर पल्लू तक नहीं डालती
देखो तो औरत होकर बस चलाती है
देखो तो एयर होस्टेस और मॉडल होकर कितना नखरा दिखा रही है
देखो तो औरत होकर इंसान की तरह जी रही है
देखो तो कैसे खिलखिलाकर हँस रही है
जरूर किसी लड़के के साथ फंस रही है
देखो तो औरत है पर कैसे गर्मजोशी के साथ मर्दों से हाथ मिला रही है..
देखो तो यह लड़की होकर अपने खोल से बाहर आ रही है....
देखो तो ...ये सरिता की तरह कल कल बहे जा रही है
देखो तो ....

- शिखर चंद जैन
 
रचनाकार परिचय
शिखर चंद जैन

पत्रिका में आपका योगदान . . .
कविता-कानन (1)कथा-कुसुम (1)विशेष (1)