प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
दिसम्बर 2018
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

आलेख
अपनी ही धुन का अलमस्त शायर: हस्तीमल हस्ती
- के. पी. अनमोल
 

ऊँचाइयों पर पहुँचने की चाहत उड़ान के दरमियान ज़्यादा होती है। अमूमन ऊँचाई पर पहुँच कर एक ख़ालीपन-सा हाथ में रह जाता है, जो बहुत कचोटता है। वहाँ से नीचे देखने पर ढेर सारे लोग होते हैं जो आपसे नीचे, कहीं पीछे रह गये होते हैं लेकिन साथ ही पीछे रह गया होता है साथ, जिसके बग़ैर जीना आसान नहीं होता। बुलन्दी पर ऐसा कोई नहीं होता जो आपका ग़म बाँट सके, आपके साथ रो सके, ठहाका लगा सके, डाँट सके। तब उस ऊँचाई पर बैठकर अपने बौनेपन का एह्सास होता है, जिस ऊँचाई को पाने के लिए हम न जाने कितनों को कुचल कर आगे बढ़े होते हैं।
इस फ़लसफ़े का एह्सास अगर सफ़र के शुरुआती दौर में हो जाए तो इससे बेह्तर मौला की रहनुमाई और कुछ नहीं हो सकती। उड़ान ऐसी हो, जिसमें किसी से आगे निकलने की न होड़ हो, न जल्दबाज़ी। कितना अच्छा हो कि हम अपनी धुन में अलमस्त होकर उड़ते रहें और सफ़र का मज़ा लेते रहें।
हस्तीमल हस्ती जी में मुझे एक ऐसे ही अलमस्त की झलक मिलती है, जो ज़माने भर की चकाचौंध से बा-ख़बर होने के बावजूद भी अपनी धुन में मगन, अपने काम में रमा दिखता है। शायद उन्होंने दुनिया और उसकी असलियत को बहुत जल्दी समझ लिया और उसके बाद ख़ुद को उससे थोड़ा-सा अलग करके रख लिया ताकि वे अपनी मर्ज़ी के मुताबिक़, अपने तरीक़े से जी सकें और अपने आपको बचाये रख सकें।
 
सब कुछ होने के बावजूद हर चीज़ को धत्ता दिखाकर अपनी ही मौज में चल देना; आपको दीवानों की फ़ेहरिस्त में शुमार कर देता है लेकिन यह दीवानगी अचानक हासिल होने वाली चीज़ नहीं; बल्कि इसके लिए एक उम्र खपानी पड़ती है, तपाना होता है ख़ुद को। भरपूर तपस्या के बाद होने वाले हासिल को एक ओर सरका कर दूसरी तरफ़ चल देने में क्या मज़ा होता है; यह सिर्फ दीवाने ही जानते हैं। हस्तीमल हस्ती जी इस मज़े से ख़ूब वाक़िफ़ लगते हैं तभी कुछ इस अंदाज़ के अशआर कहते हैं-
 
 
कभी यूँ भी हुआ है हँसते-हँसते तोड़ दी हमने
हमें मालूम है जुड़ती नहीं टूटी हुई चीज़ें
___________________
 
तुम बुलन्दी कहते हो जिसको मियाँ
ऊबकर  हम  छोड़  आये  हैं  उसे
 
इनकी ग़ज़लगोई में ज़िन्दगी का भरपूर तज़्रिबा मिलता है। बल्कि इन्हें पढ़ते हुए अनायास ही इन्हें 'तज़्रिबे का शायर' कहने का मन होता है। दर्शन इनके अशआर में शिद्दत से अपनी उपस्थिति दर्शाता है। ऐसा दर्शन, जो थोथा नहीं, भोगे हुए यथार्थ से उपजा 24 कैरेट खरे अनुभव का निचोड़। जीवन के हर पड़ाव के लिए गहरे अनुभव से भरे अशआर इनकी ग़ज़लों में मिलते हैं। कहना न होगा कि हस्ती जी ने जीवन को अपने दम पर ख़ूब जिया है।
 
जब तक हरा-भरा हूँ उसी रोज़ तक हैं बस
सारे  दुआ-सलाम  ये  मालूम  है  मुझे
 
मतलबी दुनिया की इससे बेह्तर समझ क्या होगी भला और क्या ही ख़ूबसूरत अंदाज़ में उन्होंने इस गहरी बात को शे'र में ढाला है। एक इंसान की पूछ-परख तभी तक होती है जब तक उससे कोई न कोई साध पूरी होती हो। इसी तरह के अनुभव के कुछ शे'र गौरतलब हैं-
 
इस  दुनियादारी का  कितना भारी  मोल चुकाते हैं
जब तक घर भरता है अपना, हम ख़ाली हो जाते हैं
___________________
 
झूठ की शाख़ फल-फूल देती नहीं
सोचना  चाहिए,  सोचता  कौन है
___________________
 
बरसों रुत के मिज़ाज सहता है
पेड़  यूँ  ही  बड़ा  नहीं होता
___________________
 
ख़ूबियाँ पीतल में भी ले आती है कारीगरी
जौहरी की आँख से हर एक गहना देखना
 
हस्तीमल हस्ती जी की शायरी में बहुत कुछ अलग है,  जो इन्हें तमाम दूसरे शायरों से अलग खड़ा करता है। गहरी बात को सीधे-सादे तरीक़े से आसानी से कह देना,  आसपास की हर छोटी-बड़ी चीज़ पर नज़र रख;  उसे मिसाल के बतौर इस्तेमाल करना,  आसान-सी लेकिन वजनदार कहन,  सरल शब्दावली आदि कई ऐसी ख़ूबियाँ हैं,  जो इन्हें आज के ग़ज़ल-परिदृश्य में एक अहम् मुकाम दिलाती हैं।
 
इनकी कहन और भाषा जितनी सरल हैं,  भाव उतने ही दमदार। बहुत सरल शैली में आसानी से गहरी बातें कैसे अशआर में ढालनी हैं,  यह हस्ती जी बा-ख़ूबी जानते हैं। महानगरीय चकाचौंध के बीच क़ामयाब जमात में बैठने के बावजूद भी वे स्वयं इतने ही सरल बने रहे;  जितनी इनकी शायरी,  यह बात हैरान करती है। सरल भाषा,  शैली के साथ-साथ सुगढ़ शिल्प और प्रबल भाव पक्ष इनके ग़ज़ल-लेखन को और धारदार बनाते हैं। अपनी ही मस्ती में शायरी करते हुए हस्ती जी कई बार कबीर,  नज़ीर,  निदा जैसे अल्मस्तों के आसपास पहुँचते दिखते हैं। अपनी इस बात की पुष्टि के लिए कुछ अशआर रख रहा हूँ-
 
कतना, बुनना, रँगना, सिलना, फटना फिर कतना-बुनना
जीवन का  ये चक्र पुराना  पहले भी था,  आज भी है
___________________
 
अपने घर के आँगन को मत क़ैद करो दीवारों में
दीवारें ज़िन्दा  रहती हैं लेकिन  घर मर जाते हैं
___________________
 
गुल हो,  समर हो,  शाख़ हो किस पर नहीं गया
ख़ुशबू पे  लेकिन  एक भी  पत्थर नहीं  गया
___________________
 
दिखाती हैं हमें मजबूरियाँ ऐसे भी दिन अक्सर
उठानी  पड़ती  हैं  फिर से हमें फेंकी हुई चीज़ें
 
हस्तीमल हस्ती जी की शायरी की एक और महत्वपूर्ण ख़ासियत है- अपने समय की मौजूदगी। अपने समय की शायरी होने की वजह से इनकी ग़ज़लों से गुज़रते हुए बासीपन का एह्सास नहीं होता। इनके लेखन के तत्व अपने परिवेश में आसपास ही बिखरे हुए मिलते हैं,  चाहे वह कथ्य हो या प्रतीक अथवा बिम्ब। मौजूदा समय के सरोकार भी इनके अशआर में बहुतायत से मिलते हैं। देखें-
 
अब है फ़िजूल वक़्त कहाँ आदमी के पास
दर  और कोई  ढूँढिए  जज़्बात  के लिए
___________________
 
कुछ नए सपने दिखाए जाएँगे
झुनझुने फिर से थमाए जाएँगे
 
आग की दरकार है फिर से उन्हें
फिर हमारे घर जलाए जाएँगे
___________________
 
सबका यही ख़याल कभी था पर अब नहीं
इंसान इक मिसाल कभी था पर अब नहीं
___________________
 
हमेशा रोना रोती है कमी का
करें तो क्या करें इस ज़िन्दगी का
 
ये गीता उनकी है, बाइबिल तुम्हारी
किया बँटवारा किसने रोशनी का
 
ज़रूरत आयी तो गीता भी लिक्खी
भले था काम अपना सारथी का
 
हस्तीमल हस्ती वर्तमान ग़ज़ल का एक अनिवार्य नाम है। इनकी चर्चा के बिना समकालीन ग़ज़ल का परिदृश्य अधूरा-सा मालूम होता है। इनकी कलम ने अब तक कई यादगार ग़ज़लें और अशआर दिए हैं, चलते-चलते इनमें से कुछ को क्यों न दोहरा लिया जाए-
 
किस जगह रास्ता नहीं होता
सिर्फ  हमको पता नहीं होता
___________________
 
काँच के टुकड़ों को महताब बताने वाले
हमको  आते नहीं  आदाब ज़माने वाले
___________________
 
ज़िन्दगानी इस तरह है आजकल तेरे बग़ैर
फ़ासले से  कोई मेला  जैसे तनहा  देखना
___________________
 
जिस्म की बात नहीं थी उनके दिल तक जाना था
लम्बी  दूरी  तय  करने  में  वक़्त  तो लगता है

- के. पी. अनमोल
 
रचनाकार परिचय
के. पी. अनमोल

पत्रिका में आपका योगदान . . .
हस्ताक्षर (1)ग़ज़ल-गाँव (1)गीत-गंगा (2)कथा-कुसुम (1)आलेख/विमर्श (2)छंद-संसार (1)ख़ास-मुलाक़ात (2)मूल्यांकन (17)ग़ज़ल पर बात (6)ख़बरनामा (17)संदेश-पत्र (1)रचना-समीक्षा (7)चिट्ठी-पत्री (1)पत्र-पत्रिकाएँ (1)