प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
मार्च 2015
अंक -37

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला, दिल्ली में हमिंग बर्ड का विमोचन
 
 
 
नई दिल्ली, विश्व पुस्तक मेला 2015 के पहले ही दिन 14 फ़रवरी को सबसे पहले शो में 'लेखक मंच' के बैनर तले मुकेश कुमार सिन्हा के पहले कविता-संग्रह 'हमिंग बर्ड' का आगाज उसके विमोचन और चर्चा के साथ संपन्न हुआ। हिन्द युग्म द्वारा प्रकाशित यह कविता की किताब वैसे तो सितम्बर के महीने में ही प्रकाशित हो चुकी थी, और कुछ ऑनलाइन साइट्स पर बेस्ट सेलर भी रही है।
एक आम व्यक्ति के भावों को समेटे यह किताब आम लोगों के बीच बेहतरीन ढंग से अपनी पैठ बना पायी, हिंदी कविताओं के लिए यह एक सुखद बात है। पुस्तक मेंले में इस चर्चा व लोकार्पण में मुकेश कुमार सिन्हा के अलावा राष्ट्रीय पुस्तक न्यास में संपादक लालित्य ललित, व्यंग्य-यात्रा के संपादक प्रेम जन्मेजय, पंजाबी कवि-लेखक तरसेम गुजराल और वरिष्ठ आलोचक ओम निश्चल ने किया। युवा कवियत्री अपर्णा अनेकवर्णा एवं सोनिया बहुखंडी गौड़ ने 'हमिंग बर्ड' की कुछ कविताओं का पाठ किया। संचालन ओम निश्चल ने किया।
पुस्तक मेले के पहले दिन ही एक नए रचनाकार को लेखक मंच पर दिखना आम लोगों के लिए सुखद था। ऐसा लग रहा था जैसे हिंदी कविता ने अपनी मंजिल प्राप्त कर ली हो, उसको एक बहुत बड़ा पाठक वर्ग मिल गया हो। मुकेश कुमार सिन्हा इस सफलता के लिए बधाई के पात्र हैं।

- प्रीति अज्ञात
 
रचनाकार परिचय
प्रीति अज्ञात

पत्रिका में आपका योगदान . . .
हस्ताक्षर (37)कविता-कानन (1)ख़ास-मुलाक़ात (9)मूल्यांकन (2)ग़ज़ल पर बात (1)ख़बरनामा (12)व्यंग्य (1)संदेश-पत्र (1)विशेष (2)'अच्छा' भी होता है! (2)फिल्म समीक्षा (1)