प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2018
अंक -42

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

कविता-कानन

आदमी के अंदर बसता है शहर

शहर के अंदर बसता है आदमी
आदमी के अंदर बसता है शहर
आदमी घेरता है एक जगह
शहर के अंदर
शहर भी घेरता है एक जगह
आदमी के अंदर
जब शहर भीगता है
भीगता है आदमी
एक शहर से दूसरे-तीसरे
शहर जाता आदमी
कई शहर को एक साथ जोड़ देता है
अपने दिमाग की नसों में
जब एक शहर उखड़ता है
तो उखड़ जाता है आदमी
एक छोटा-सा आदमी
बिलकुल मेरे जैसा
अपनी स्मृतियों में
रोज़-रोज उस शहर को लौटता है
जहाँ उसने किसी को अपना कहा
उसका कोई अपना जहाँ रहता है
उस शहर में जहाँ लिखी प्रेम कविताएँ
जहाँ किसी को उसकी आँखों के रंग से पहचानता हूँ
उस शहर में जहाँ मैं किसी को उसकी आवाज़ से जानता हूँ
उस जैसे कई शहर का रास्ता
मुझसे होकर जाता है
हर शहर एक खूबसूरत शहर है
जिसकी स्मृतियों का मैंने व्यापार नहीं किया।


**********************************


बनारस

समय का कुछ हिस्सा
मेरे शहर में रह जायेगा
इस तरफ
नदी के
जब मेरी रेलगाड़ी
लाँघती रहेगी गंगा को
और हम लाँघते रहेंगे
समय की चौखट को
अपनी जीवन यात्रा के दौरान
अपनी जेब में
धूप के टुकड़े को रख कर
शहर-दर-शहर
बनारस
यह शहर ही मेरा खेमा है अगले कुछ दिनों के लिये
इस शहर को जिसे कोई समेट नहीं सका
इस शहर के समानांतर
कोई कविता ही गुज़र सकती है
ब-शर्ते उस कविता को कोई मल्लाह अपनी नाव पर
ढोता रहे घाटों के किनारे
मनुष्य की तरह कविता भी यात्रा में होती है।


- रोहित ठाकुर
 
रचनाकार परिचय
रोहित ठाकुर

पत्रिका में आपका योगदान . . .
कविता-कानन (1)