प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
फरवरी 2018
अंक -38

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

उभरते-स्वर

इंद्रधनुष रूपी प्रेम

इंद्रधनुष-सा प्रेम मेरा
रंगों से परिपूर्ण है
ठीक वैसे ही
जैसे ज़िन्दगी एक रंगमंच
जहाँ रोज़ नये रंग
मंच पर उभर आते हैं!
ठीक वैसे ही जैसे
जैसे मछली के लिये
जल ही जीवन
मेरा प्रेम मेरा जीवन है
जो तुमसे परिपूर्ण है
तुम वही रंग हो
हाँ वही
जिसे देख मन झूम उठता है
गा उठता है, नाच उठता है
ठीक वैसे ही जैसे
बारिश में बावरा मोर
नाच-नाचकर
अपना प्रेम
उन बून्दों के लिये झलकाता है
ये इंद्रधनुष एक कड़ी है
जो धरती-आस्मां को जोड़ती है
अलग-अलग रंग लिये
वैसे ही मेरा प्रेम है नूतन
जो हम दोनों को परस्पर
चुम्बक की तरह जोड़कर रखा है
हाँ, यही तो इंद्रधनुष रूपी प्रेम है


- जयति जैन नूतन
 
रचनाकार परिचय
जयति जैन नूतन

पत्रिका में आपका योगदान . . .
उभरते स्वर (1)