प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
फरवरी 2018
अंक -35

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

ख़बरनामा
सारा एजुकेशन एंड कल्चरल सोसाइटी के तत्वावधान में श्रीमती ख़दीजा खान के काव्य संग्रह “आबगीना” का विमोचन 
 
सारा एजुकेशन एंड कल्चरल सोसाइटी के तत्वावधान में दिनांक 09-02-2018 को शाम 6:00 बजे स्वराज भवन, भोपाल में श्रीमती ख़दीजा खान के काव्य संग्रह 'आबगीना' का विमोचन हुआ । इस अवसर पर स्वराज भवन साहित्य प्रेमियों से भरा हुआ था। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री जि़या फ़ारूक़ी ने की। 
श्रीमती ख़दीजा ने अपने उद्बोधन में कहा कि खुसूसी मेहमान मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी की सचिव डॉ. नुसरत मेहदी, श्री कुमैल हैदर, श्री बद्र वास्ती, सारा एजूकेशन एवं सभी हाज़रीन की शुक्रगुज़ार हूँ आज का दिन मेरे लिए सबसे ख़ास बन गया है। मुझे लिखने-पढ़ने का शौक़ बचपन से रहा, घर में कई किताबें रखी रहती थीं जिन्हें मैं पढ़ती रहती थी। शुरूआत शेरो शायरी से ही हुई। श्रीमती खदीजा ने कुछ नज़्में भी पेश कीं जिन्हें श्रोताओं ने बहुत पसन्द किया।
 
श्रीमती ख़दीजा खान का हिन्दी में एक काव्य संग्रह “सपना सा लगे” पूर्व में प्रकाशित हो चुका है । साथ ही उर्दू नज़्मों का हिन्दी अनुवाद “संगत” नाम से प्रकाशित हो चुका है। उर्दू में यह उनका पहला संग्रह है। मध्यप्रदेश के रायसेन में जन्मी और वर्तमान में जगदलपुर, छत्तीसगढ़ में निवासरत श्रीमती खान शायरी करने के अतिरिक्त कहानियां भी लिखती हैं। हिन्दी और उर्दू दोनों में समान रूप से लोकप्रिय श्रीमती ख़दीजा खान रेडियो और टेलीविज़न की भी स्थापित लेखिका और शायरा हैं।

- सुरेन बिश्नोई