प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
जनवरी 2018
अंक -42

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

हाइकु

हाइकु

वक्त डायरी
अपना कलेवर
बदल रही।



समय चक्र
चले अनवरत
कभी न रुके।



बड़े महँगे
रजाई व कम्बल
जेब हलकी।



पारे सदृश
ढलके अश्रु बिंदु
कपोल पर।



उगा सूरज
सुनहरे सपने
विदा हो गये।



देश की धूल
माथे लगा चन्दन
करें वन्दन।


मिट्टी के पात्र
सदा होते पवित्र
ईको फ्रेंडली ।



पानी बरसा
नथुनों में समायी
मिट्टी की गन्ध।



दर्द का गीत
नयनों से बहता
भीगा आँचल।



लगा गलाने
समय का सुनार
हृदय स्वर्ण।


- डॉ. रंजना वर्मा
 
रचनाकार परिचय
डॉ. रंजना वर्मा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
गीत-गंगा (1)हाइकु (2)