प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
मार्च 2015
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

दोहे
क्या माली का हो गया, बाग़ों से अनुबंध?
चित्र छपा है फूल का, शीशी में है गंध॥1II
 
चूल्हे न्यारे हो गये, आँगन में दीवार।
बूढ़ी माँ ने मौन धर, बाँट लिये त्यौहार॥2II
 
मुल्ला जी देते रहे, पाँचों वक़्त अज़ान।
उस मौला को भा गयी, बच्चे की मुस्कान॥3II
 
एक तमाशा फिर हुआ, इन दंगों के बाद।
जिनने फूंकी बस्तियाँ, बाँट रहे इमदाद॥4II
 
कर लो यदि इस दौर की, कुछ शर्तें स्वीकार।
सहज मिलेंगे साथियों, पैसा-कोठी-कार॥5II
 
गुमटी पर हैं कायदे, ठेले पर हैं रूल।
थोक भाव से बिक रहे, यारों आज उसूल॥6II
 
मजदूरन की देह को, ताके ठेकेदार।
रूह ढँकेगी बेबसी, कब तक पेट उघार॥7II
 
एसी कूलर जून में, हरते हैं अवसाद।
बरगद-पीपल गाँव के, आते फिर भी याद॥8II
 
बरगद-पीपल-नीम की, शीतल गहरी छाँव।
मीठा पानी कूप का, स्वर्ग धरा पर गाँव॥9II
 
सोच रहा हूँ देर से, हाथ लिये पतवार।
जीवन दरिया रेत का, कैसे होगा पार॥10II
 

- ख़ुर्शीद खैराड़ी