प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
जनवरी 2018
अंक -35

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

जयतु संस्कृतम्
कविता -सबलास्ते नैवाबलेयम् 
                        
नैव कोमला
नैव कातरा
सबलास्ते नैवाबलेयम्। 
पातिव्रत्यबलेन 
प्रत्याकर्षयति  
मृत्योर्मुखात् 
पतिप्राणान्
सबलास्ते सावित्री सा
नैव कोमला नैव कातरा 
सबलास्ते नैवाबलेयम्। 
आत्मशक्ति-बलेन 
युद्धरता रणाङ्गणे 
प्रत्यर्थिनः परावर्तयति 
सबलास्ते झाँसीराज्ञी 
लक्ष्मीबाई सा ।।
नैव कोमला नैव कातरा 
सबलास्ते नैवाबलेयम् ।
बुद्धिकौशल-बलेन शासयति 
रक्षयति च राष्ट्रं  
सबलास्ते निर्मला सीतारमण सा ।
नैव कोमला नैव कातरा 
सबलास्ते नैवाबलेयम् । 

- डॉ. मधुबाला शर्मा
 
रचनाकार परिचय
डॉ. मधुबाला शर्मा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
जयतु संस्कृतम् (2)