प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
दिसम्बर 2017
अंक -33

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

हाइकु

हाइकु 


मौसम सर्द
कोहरे से डरते
औरत-मर्द।



ओस की बूँदें
मोती बन चमकीं
बातें नभ की।



धूप सुहानी
छतों पर रौनक
किस्सा-कहानी।



कौन नहाये
जाड़ा गीत सुनाये
धूप सुहाए।



झूमता रहा
सुख की तलाश में
घूमता रहा।



बच्चों के साथ
नया साल मनाया
घर सजाया।



कभी धूप में
कभी छाँव में रहो
गाँव में रहो।



वसुधा तपे
वृक्ष के नीचे बैठी
माँ माला जपे।



फुटपाथ में
रावण बिक रहा
सत्य की जीत।



दिन में शाम
दृश्यता शून्य हुई
जाड़े का काम।


- चक्रधर शुक्ल
 
रचनाकार परिचय
चक्रधर शुक्ल

पत्रिका में आपका योगदान . . .
हाइकु (1)