प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
नवम्बर 2017
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

गीत-गंगा

बालगीत- हवा

हम बच्चों-सी मस्त हवा।
रहती हरदम व्यस्त हवा।।

जीव-जंतु को जीवन देती,
पौधों को सहलाती है।
कलियों को दुलरा बहला कर,
सुन्दर फूल खिलाती है।
भँवरों जैसी मस्त हवा।
बच्चों-सी अलमस्त हवा।।

साँस इसी से हम लेते,
नहीं इसे पर कुछ देते।
झोंके मस्त हवाओं के,
रस जीवन में भर देते।
करती रहती गश्त हवा।
बच्चों-सी अलमस्त हवा।।

ठंडक पड़े तो सिहराती,
गर्मी में सुख दे जाती।
जब भी यह गुस्सा जाती,
आँधी बन कर धमकाती।
करती है तब त्रस्त हवा।
बच्चों-सी अलमस्त हवा।।


***********************


बालगीत- कबूतर

पप्पू के घर पले कबूतर।

लाल सलेटी भूरे काले,
प्यारे-प्यारे भोले-भाले।
कोमल चिकने साफ़ रुई से,
सहमे-सहमे छुई-मुई से।
सदा गुटर-गूँ करे कबूतर।
पप्पू के घर पले कबूतर।।

कोदो सरसों खुद्दी खाते,
खा पी कर ऊँचे उड़ जाते।
दूर-दूर तक घूमा करते,
नील गगन को चूमा करते।
कभी नहीं घर तजे कबूतर।
पप्पू के घर पले कबूतर।।

पहले थे चिट्ठी ले जाते,
जिसे कहो उसको पहुँचाते।
पिंजरा कभी न इनको भाता,
उड़ते फिरते मौज मनाते।
मालिक से ही डरे कबूतर।
पप्पू के घर पले कबूतर।।


- डॉ. रंजना वर्मा
 
रचनाकार परिचय
डॉ. रंजना वर्मा

पत्रिका में आपका योगदान . . .
गीत-गंगा (1)हाइकु (2)