प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
सितंबर 2017
अंक -31

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

कविता
संस्कृत त्रिपदिका 
 
(1)
कवितैव चिनोति सदैव, 
कविं स्वेच्छया, 
कविर्न कदापि।।
 
(2)
कवितया, 
लिखितोऽहं, 
सम्पूर्णरूपेण।।
 
(3)
यदा यदा पश्यति, 
कविता मां, 
स्वच्छीभवति रूपं मे।।
 
(4)
कविता स्पृशति यदा, 
कवेर्हृदयं, 
पवित्रीभवति सः।।
 
(5)
कविता रचयति, 
कविं सर्वदा, 
स्वान्तःसुखाय।।
 

- डाॅ. कौशल तिवारी
 
रचनाकार परिचय
डाॅ. कौशल तिवारी

पत्रिका में आपका योगदान . . .
जयतु संस्कृतम् (1)