हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका

मई 2019
अंक - 49 | कुल अंक - 53
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

इसके सिवा जाना कहाँ
एक समय था जब तमाम समस्याओं के होते हुए भी सबकी अपनी एक ख़ूबसूरत दुनिया थी। वो दुनिया जिसमें असहमत होना, क्रोध को भले ही उपजाता था लेकिन उसे अपराध की श्रेणी में क़तई नहीं रखा जाता था। लेकिन इन दिनों रिश्तों की मृदुलता, स्थिरता और सुन्दरता जैसे चुनाव ने लील ली है। रोज गुट बनते जा रहे हैं। परस्पर नीचा दिखाने का एक भी अवसर कोई चूकना नहीं चाहता! क्या चुनाव हम सबसे इतना ऊपर हैं कि जिस संस्कृति, धर्मनिरपेक्षता और एकता की हम दुहाई देते हैं, सबसे पहले उसे ही ताक पर रख दिया जाए! ज़रा ठहरकर सोचिये कि किसी का घोर विरोधी या समर्थक बनने की धुन में हमारे बीच कितना कुछ टूट रहा है! नेता किसी के नहीं होते। अरे, ये तो ख़ुद अपने दल के ही नहीं रह पाते। हम ....

Share
इस अंक में ......

आवरण: डॉ. कामरान ख़ान

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
ख़ास-मुलाक़ात
स्मृति
मूल्यांकन
ग़ज़ल पर बात
धरोहर
देशावर
ख़बरनामा
हाइकु
उभरते स्वर
ज़रा सोचिए!
विशेष
यादें!
यात्रा वृत्तांत
फ़िल्म समीक्षा
जयतु संस्कृतम्
धारावाहिक