हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
सितम्बर 2018
अंक -45

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

संपादकीय
हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा: भाषा, क्लिष्टता और ककहरा    'भाषा' क्या है और 'साहित्यिक भाषा' इससे कितनी अलग होनी चाहिए, इस बात पर बुद्धिजीवी कभी भी एकमत नहीं हो पाते। पूरी तरह से किसी एक पक्ष का समर्थन करने में उनका संकोच स्पष्ट रूप से दृष्टिगोचर होता है। कुछ भाषाई क्लिष्टता को ही साहित्यिक रचना की प्रथम गुणवत्ता मानते हैं जबकि कुछ इससे भिन्न सोच रखते हैं। इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि आम पाठक के लिए कठिनता, काव्य की सरसता में बाधा पैदा करती है। भाषा वही हो, जो अभिव्यक्ति में रुकावट न डाले। सरल, सहज भाषा यदि जनमानस के हृदय को सीधे-सीधे छू जाती है, तो इसका एकमात्र कारण यही है, कि ये न सिर्फ़ आसानी से ....
 
Share
इस अंक में ......

आवरण: साभार गूगल

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
स्मृति
मूल्यांकन
धरोहर
देशावर
ख़बरनामा
ज़रा सोचिए!
विशेष
संस्मरण
पत्र-पत्रिकाएँ
यात्रा वृत्तांत
फ़िल्म समीक्षा
जयतु संस्कृतम्
धारावाहिक