हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2018
अंक -41

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

बंद, दंगे और मानवता का आर्तनाद
ये न हिन्दू हैं, न मुस्लिम, न दलित और न ही किसी और धर्म-जाति से सम्बन्धित लोग! दरअस्ल ये अक़्ल से पैदल मानवों का एक ऐसा समूह है, जिसे सिर्फ़ और सिर्फ़ यही करना आता है इसीलिए आप जब, जो भी जी चाहे; इनसे करवा सकते हैं। आप इन्हें किसी का सिर फोड़ने को कहेंगे, ये फोड़ आयेंगे। किसी का घर तोड़ने का कहेंगे, ये तोड़ आयेंगे। आग लगाने का कहें, लग जाएगी। मार-कुटाई, लूटपाट, हत्या ये सब इनके लिए खेल हैं, तमाशे हैं जिन्हें दिखाने के एवज़ में इन्हें अच्छा भुगतान भी मिल ही जाता है। इनमें से कई वे लोग भी हैं, जो शराब की एक बोतल के बदले अपना वोट बेचते आए हैं अर्थात इन पर अधिक ख़र्च की भी कोई दरकार नहीं! ये अलग बात है कि दयालुतावश कोई इन्हें कभी कम्बल, साइकिल, बस्ता, लैपटॉप जैसी ....
 
Share
इस अंक में ......

आवरण: ताराचन्द शर्मा

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
ख़ास-मुलाक़ात
भाषांतर
स्मृति
मूल्यांकन
धरोहर
ख़बरनामा
हाइकु
उभरते स्वर
रचना-समीक्षा
पत्र-पत्रिकाएँ
फिल्म समीक्षा
जयतु संस्कृतम्
धारावाहिक