हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
अप्रैल 2017
अंक -37

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

संपादकीय
एक दिन यह हादसा हो जाएगा, आदमी से रब ख़फ़ा हो जाएगा   'भारत' हमारी जननी, जन्मभूमि है, इसीलिए हम सभी इसे स्नेह से 'भारत माँ' कहते आये हैं। प्राचीनकाल से गाय की पूजा होती रही है, साथ ही इसके दूध और उससे बने उत्पाद हम सभी के आहार का प्रमुख हिस्सा हैं। राष्ट्र के विकास में डेयरी उद्योग की महत्वपूर्ण भूमिका से भी इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए गाय को 'माँ' का दर्जा देना तर्कसंगत है। लेकिन सेलिब्रेशन के नाम पर बन्दूक की नाल में कबूतरों को फँसाकर उन्हें हवा में ही भस्म होता हुआ देख किस माँ की आँखें नम न होती होंगी? क्या अन्य जानवरों पर अत्याचार होते देख उसका ह्रदय ग्लानि से न भर जाता होगा? आख़िर कौन सी ....
 
Share
इस अंक में ......

आवरण चित्र: अमन चाँदपुरी

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
जो दिल कहे
मूल्यांकन
ख़बरनामा
व्यंग्य
हाइकु
उभरते स्वर
बाल-वाटिका
यादें!
संस्मरण
नाटक
फिल्म समीक्षा