हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
फरवरी 2016
अंक -43

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

मोहब्बत की क़ीमत गर है, तो मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं!
"बेताबियाँ समेट के सारे जहान की  जब कुछ न बन सका तो मेरा दिल बना दिया" - जिगर मुरादाबादी  अहा, प्रेम! आह, प्रेम! काश, प्रेम! उफ्फ, ये प्रेम! प्रेम की कोई स्थायी परिभाषा है ही नहीं, ये तो प्रेम के बदलते रूपों के साथ-साथ परिवर्तित होती जाती है! जिसने जैसा जिया, वैसा लिखता गया।  जरा सोचिये, गर 'प्रेम' न होता तो कविता होती? क्या तब भी लिखे जाते ग्रंथ? क्या ....
 
Share
इस अंक में ......

फरवरी 2016

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
छंद-संसार
भाषांतर
स्मृति
मूल्यांकन
ग़ज़ल पर बात
देशावर
ख़बरनामा
व्यंग्य
हाइकु
बाल-वाटिका
संदेश-पत्र
ज़रा सोचिए!
रचना-समीक्षा