हस्ताक्षर : मासिक साहित्यिक वेब पत्रिका
प्रज्ञा प्रकाशन, सांचोर द्वारा प्रकाशित
नवम्बर 2016
अंक -20

प्रधान संपादक : के.पी. 'अनमोल'
संस्थापक एवं संपादक: प्रीति 'अज्ञात'
तकनीकी संपादक : मोहम्मद इमरान खान

संपादकीय
बदले तो हम हैं     'बचपन' शब्द सुनते ही किलकारी भरते हुए, एक हँसता खिलखिलाता चेहरा सामने आकर खड़ा हो जाता है। बच्चों का भोलापन, इनकी मासूमियत और निर्दोष मन बरबस ही अपनी ओर ध्यान आकर्षित कर लेता है। यद्यपि संवेदनाओं के मशीनीकरण की दौड़ में अब बचपन भी, शीघ्र ही परिपक्वता ओढ़ समझदारी का परिचय देने लगा है फिर भी एक उम्र तक इससे जुड़ा हर अहसास जीवित रहता है।   कहते हैं, शिक्षा ही व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास करती है। लेकिन यहाँ यह जान लेना भी आवश्यक है कि ....
 
Share
इस अंक में ......

अतिथि संपादक- पवन चौहान

हस्ताक्षर
कविता-कानन
ग़ज़ल-गाँव
गीत-गंगा
कथा-कुसुम
आलेख/विमर्श
ख़ास-मुलाक़ात
मूल्यांकन
धरोहर
ख़बरनामा
उभरते स्वर
ज़रा सोचिए!
संस्मरण
नाटक
मुक्तक